देश मनोरंजन

नायकी और खलनायकी के बेताज बादशाह विनोद खन्ना अब नहीं रहे

 नायकी और खलनायकी अदाओं से अपने पहचान की  बेहतरीन परिचय देने वाले अभिनेता और बॉलीवुड के मोस्ट हैंडसम हीरो विनोद खन्ना अब नही रहे, 70 साल की उम्र मे मुम्बई के एच एन रिलायंस फाउन्डेसन हॉस्पिटल ऐण्ड रिसर्च सेंटर में गुरुवार दोपहर 12 बजे उनका निधन हो गया ।   

आप को बता दें कि विनोद खन्ना पिछले कई महिनों से बिमार चल रहे थे । हालहिं मे शोशल मिडिया पर उनकी एक तस्विर वायरल हुई थी जिसमें वो काफि कमजोर नजर आ रहे थे जिसके बाद ये बताया जा रहा था कि वो कैंसर से पीड़ित थे । उनके निधन पर हेमा मालिनी ने शोक जताते हुए कहा कि उन्हें उम्मिद थी कि वो जल्द ही ठिक हो जाएंगे लेकिन ऐसा नही हो पाया ।

विनोद खन्ना की पहली फिल्म 1968 में मन का मित रिलिज हुई थी जिसमे उन्होंने खलनायक का रोल निभाया था । दयावान में उन्होंने बेहतरिन नायक का रोल अदा किया और अपने से आधे उम्र की अदाकारा माधुरी दिक्षित के साथ उन्होंने रोमांश किया और यह फिल्म सुपर-डुपर हिट रही थी । विनोद खन्ना ने अपने कैरियर मे 140 से भी ज्यादा फिल्में की और खास बात यह थी कि पहली फिल्म करने के बाद ही उन्होंने एक साथ 15 फिल्में साइन की । कहा जाता है कि उनके जीवन मे ओशो का काफि प्रभाव था और इस प्रभाव के कारण वो फिल्मी दूनिया से 4 सालों तक दूर रहे ।

विनोद खन्ना फिल्मी दूनिया के साथ साथ राजनीति मे भी सक्रिये थे वे पंजाब के गुरदासपुर से भारतीय जमता पार्टी के सांसद और अटल बिहारी वाजपेयी के सरकार मे राज्यमंत्री भी रह चुके थे ।

Facebook Comments
Rahul Tiwari
युवा पत्रकार
http://thenationfirst.in

Leave a Reply