राजनीति

नीतीश ने लगाई तेजस्वी को लतार, जवाब मुझे नही जनता को चाहिए

मौसम ने तो बिहार को राहत दे दी लेकिन नीतीश कुमार तेजस्वी यादव को राहत देने के मूड में बिल्कुल भी नज़र नही आ रहे है । बुधवार को नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव की हुई बैठक को एक तरफ तेजस्वी यादव ने औपचारिक बैठक बताया और कहा कि मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री की बैठक आमतौर पर होती रहती है इस बैठक मे इस्तीफा को लेकर कोई बातचीत नही हुई है ।
तेजस्वी यादव ने कहा कि मुझे जनता ने चुना है और मैं अपनी सफाई जनता को ही दूंगा साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि अगर हमारी पार्टी कहती है तो मैं इस्तीफा देने को तैयार हूँ लेकिन जबतक पार्टी नही कहेगी मैं इस्तीफ नही दूंगा क्योंकि मुझे मंत्री बनाने का निर्णय पार्टी का था इस लिए मैं पार्टी से विपरीत नही जा सकता ।

वही एक न्यूज़ चैनल के रिपोर्ट के मुताबिक इस बैठक में नीतीश कुमार ने तेजस्वी यादव से कहा है कि मुझे आप कोई सफाई मत दिजीये सफाई देना है तो जनता को दिजीये जिसने आप को चुना है । इस बैठक के बाद ये माना जा रहा था कि गठबंधन में पड़ी दरार अब मिट सकती हैं लेकिन दूसरे ही दिन जदयू ने साफ कर दिया कि भ्रष्टाचार के मामले में कोई समझौता नही होगा और नही इस मुद्दे पर कोई बातचीत का कोई विकल्प हो सकता है ।

यह भी पढ़ेंः नीतीश ने तोड़ी चुप्पी,अब नही होगा कोई समझौता मुझे चाहिए इस्तीफा

वहीं पार्टी प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा है कि RJD से भ्रष्टाचार के मामले में कोई जवाब नही मिला है साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि गठबंधन ज़ीरो टॉलरेंस के लिए बनी है ना कि भ्रष्टाचार के लिए इस लिए सरकार में भ्रष्टाचार बिल्कुल भी बर्दाश्त नही की जाएगी ।
वही अगर बीजेपी की बात करें तो बीजेपी इस आग में घी डालने का काम कर रही है । आपको बता दें कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गठबंधन पर चुटकी लेते हुए कहा कि भ्रष्टाचार में लिप्त नेताओं को सरकार बिल्कुल भी बचने की कोशिश ना करे PM के इस बयान को कई तरह से देखा जा रहा है।

गठबंधन को ताक पर रख दूसरा विकल्प ढुंढ रही है जदयू

बीजेपी की तरफ से लगातार दिए जा रहे ऑफ़र से यह कयास लगाया जा रहा है कि गठबंधन टूटने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नीतीश कुमार को अपने पाले में ले सकते हैं। ये इस लिए कहा जा रहा है कि बीते दिन सोनिया गांधी ने लालू यादव और नीतीश कुमार को भोज के लिए आमंत्रित किया था लेकिन नीतीश कुमार वहाँ न जाकर उसी शाम प्रधानमंत्री मोदी के साथ डीनर करते नज़र आये ।तो ऐसे में ये कहना गलत नही होगा कि बीजेपी अपना दावा खेलने में पीछे नही हट रही है और ये भी कहा जा सकता है कि नीतीश कुमार गठबंधन टूटने के बाद एक बार फिर अपने पुराने मित्र बीजेपी के साथ जा कर सरकार चला सकते हैं ।

41 total views, 1 views today

Facebook Comments
Rahul Tiwari
युवा पत्रकार
http://thenationfirst.in

Leave a Reply