राजनीति

नीतीश ने तोड़ी चुप्पी,अब नही होगा कोई समझौता मुझे चाहिए इस्तीफा

पिछले कई दिनों से बिहार की राजनीति में भारी उथल पुथल मची हुई है और सत्ताधारी ही एक दूसरे पर पलटवार करने का एक भी मौका नही गंवा रहे है जिससे महागठबंधन के टिकने की आसार शायद काम ही दिख रही है । क्योंकि दोनो ही सत्ताधारी एक दूसरे के सामने झुकने को तैयार नही हैं ।

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का कहना है कि किसी भी सूरत में तेजस्वी यादव यानी बिहार के उपमुख्यमंत्री इस्तीफा नही देंगे तो इसी बयान पर जदयू नेता रमई राम ने बयान दिया था कि हमारी पार्टी ने तेजस्वी यादव को चार दिनों की अल्टीमेटम दिया है और अगर तेजस्वी यादव इन चार दिनों में इस्तीफा नही देते हैं तो जदयू खुद ही एक्शन लेगी

लेकिन आपको बता दूं कि तेजस्वी यादव को चार दिनों की मोहलत देने वाले बयान से रमई राम खुद ही पलट गए और उन्होंने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा कि हम ने राजद को चार दिनों की मोहलत की बात नही कही थी हम ने राजद से चार दिनों में सफाई मांगी थी । लेकिन कुछ दिन बीतने के बाद रमई राम लालू आवास पर खुद ही नज़र आए साथ ही लालू आवास पर एन डी तिवारी भी नज़र आए । तो क्या संभव है कि महागठबंधन में सुलह के आसार दिखने लगे हैं अगर ऐसा वाकई में होता है तो बीजेपी को भारी नुकसान उठाना पर सकता है ।अब देखना ये होगा कि बीजेपी क्या नई रणनीति बनाती है ।

यह भी पढ़ें:तेजस्वी का जाना लगभग तय ,महागठबंधन पर भी लटक रही है तलवार

वही सुसाशन बाबू ने लालू के बयान पर कड़ा रुख अपनाते हुए कहा कि हमे सिर्फ तेजस्वी यादव का इस्तीफा चाहिए ना कि उनके मंत्रियों का और साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि हमे राजद का समर्थन बाहर से खैरात में नही चाहिए हमने सिर्फ तेजस्वी यादव से इस्तीफा मांगा है । उनके सारे मंत्री अपने पद पर रह कर काम करते रहें ।

कुछ दिनो पहले लालू यादव ने कहा था कि अगर तेजस्वी यादव इस्तीफा देते हैं तो उनके मंत्री भी इस्तीफ़ा दे देंगे ।
इस बात से साफ है कि ना ही लालू यादव झुकने तो तैयार हैं और नही नीतीश कुमार तो ऐसे में दोनों ही पार्टियों के बीच सुलह के आसार शायद काम ही दिखाई दे रही है ।वही कांग्रेस लगातार कोशिश कर रही है कि दोनों ही पार्टियों के बीच सुलह हो जाये लेकिन कांग्रेस को निराशा ही हाथ लगी है ।

Facebook Comments
Rahul Tiwari
युवा पत्रकार
http://nationfirst.co

Leave a Reply