कहानी

कहानी: झुमु एक न्याय कथा

झुमरू ओ झुमरू कहाँ हो? ये लड़की भी न दिन भर इधर से उधर करती रहती है पता नहीं कब बड़ी होगी 16 साल की हो गई है फिर भी बच्चों जैसी हरकतें करने से बाज नहीं आती है आने दे तुम्हारे बापू को !!!!!!! झुमरू की माँ दुहरी पर खाना बनाते हुए झुमरू को […]

758 total views, 34 views today

कहानी

बीहड़, मैं और लड़की भाग -2

इस कहानी का पहला भाग यहाँ क्लिक कर पढ़ें : बीहड़,मैं और लड़की क्रमशः बारिश जोरों पर थी नैना के बापू अभी आधे रास्तें में ही थे पर बारिश अपनी धुन में ही बरसे जा रही थी बिजली जोरो से कड़क रही थी इस सुनसान रास्तें में बिजली की कड़क से जंगल का राजा भी सहम जाए […]

29,528 total views, no views today

कहानी

बीहड़,मैं और लड़की

जब मैं रोड से गुजर रहा था अचानक एक परछाईं मेरे सामने से गुजरी मुझे लगा कोई व्यक्ति होगा जिसकी परछाई होगी लेकिन नहीं दूर दूर तक तो कोइ आदमी नजर नहीं आ रहा था वो सुनसान सा रास्ता और मै अकेला डर सा गया था लेकिन फिर भी हिम्मत कर के चले जा रहा […]

3,516 total views, no views today

कहानी

कहानी : पल भर का सच्चा प्यार

जब वह मेरे करीब आ रहीं थी मेरे अंदर एक अजीब सी झुरझुरी मची हुई थी पता नही क्यो जीवन मे पहली बार किसी लड़की ने मुझे अंदर तक झकझोर कर रख दिया था मैंने तेजी से उसका पीछा करना शुरु कर दिया शाम होने को थी और ठंड के समय मे तो शाम कब […]

999 total views, no views today

कहानी

वीरान जिंदगी और हवस

जीया.. ओ जीया बेटा! खिड़की किवाड़ लगा जल्दी बाहर भयंकर तूफान आ रहा है लग रहा है आज का दिन भी घर मे ही काटना पड़ेगा साला मन तो करता है ये पहाड़ी इलाका छोड़ कही मैदानी भाग में अपना घर बसाए लेकिन मन करने से क्या होता है… और वह पलंग पर लेट जाता […]

3,186 total views, 2 views today

कहानी

कहानी: पुत्र रत्न (part – 2)

इस कहानी का पहला भाग पढने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें: पुत्र रत्न (part 1) इस कहानी में अब तक आप ने पढ़ा की कैसे यज्ञ में दी गई आहुति से काम देव प्रकट हुए और वरदान के बदले श्राप दे डाला और भृंग राज फूट फूट कर रोने लगा और अब आगे बेचारा भृंगराज […]

1,268 total views, no views today

कहानी

नकाबपोश

बाहर बारिश बहुत तेज हो रही थी सभी अपने अपने घरों में दुबके हुए थे ऐसा लग ही नहीं रहा था की इस बारिश  से कोई खुश हो शाम के वही 5-6 बजे होंगे पुरी सड़कें सन्नाटों से घिरा हुआ जैसे लग रहा था ये बारिश सुकून की नहीं बल्कि भय की बरसात हो तभी […]

329 total views, no views today

कहानी

पुत्र रत्न

एक बार ऋषि मेरे घर पधारे ऋषि तो ऋषि होतें है सो उन्होंने बोल दिया तेरे घर बेटा होवेगा लेकिन व संस्कारी + कुसंस्कारी दोनों गुण उन में मौजूद होवेगा बस इतना बोल के वह चुप हो गया ! वह सिर्फ कपड़ो से ऋषि लगता था देखने से तो वह बिलकुल पागल प्रतीत होता था […]

661 total views, 2 views today

इतिहास के पन्नों से कहानी देश - दुनिया

हिंदुस्तान का वो क्रांतिकारी जो अपने बुढ़ापे में भी अंग्रेजो के लिए काल बना

वैसे तो बिहार की धरती ने कई वीर योद्धाओं को जन्म दिया है लेकिन आज मैं एक ऐसे वीर योद्धा की बात कर रहा हुं जो हर मायने मे खास था जिसने अपने युद्ध कला से अंग्रजों के पसीने छुड़ा दिए . और ये कभी  अंग्रजों के हाथ नही आए । अंग्रेजों ने जब-जब इन्हें […]

802 total views, no views today

कहानी

रो परी थीं मां

। मां एक ऐसा शब्द है जिसके उच्चारण मात्र से ही मन को अपार शांति प्राप्त होती है जिस तरह से समंदर अपने आगोस मे सारे नदीयों को भर लेता है चाहे उनमे कितनी ही गंदगी क्यों ना हो उसी तरह से मां का हृदय भी होता है । अपनी सुख सुविधा को त्याग कर […]

804 total views, 12 views today