व्यंग

भई ई जनम में हमसे ना हो पाई

अमा कहने को तो कुछ भी बोल दो मुँह आगे में है और तो और इतना जबरदस्त की दूसरों के मुँह से भी बुलवा लो. सुबह सुबह जब हम अपने घर से रोज की भाती लल्लन की चाय के दुकान के लिए रवाना हो रहे थे की हमारी धर्मपत्नी बोलती है आज तो तुम्हरा खाना […]