ऐसे ही

डीयू के कॉलेजों मे अपनी एक खास पहचान बना रही है ‘श्री अरबिंदो कॉलेज’

ब एक स्टूडेंट 12th पास करता है उसके आंखो मे कई सपने होते हैं और और उसके मन मे बस एक ही लालसा होती है बस एक अच्छा सा कॉलेज मिल जाए जिसमे वो अपने सपनों को साकार कर सके और जब उसे एक अच्छा कॉलेज मिलता है तब भी उसके मन मे कई सवाल होते हैं कॉलेज कैसा होगा वहां के प्रोफेसर कैसे होंगे और कहीं न कही उनके मन मे एक डर भी होता है कि जिस कॉलेज मे उसका नामंकन हुआ है उसके सिनीयर कैसे होंगे कही उसके साथ कोई रैंगिंग ना करने लगे ।

लेकिन मैं आपको एक ऐसे कॉलेज के बारे मे बताने जा रहा हूँ  जो आप कि सारी चिंताओं के दूर कर देगी। मैं बात कर रहा हूँ दिल्ली  विश्वविध्यालय कि जिसके  अंडर में आने वाला कॉलेज श्री अरबिंदो कॉलेज है जो डीयू के कॉलेजों  में अपनी खास पहचान बना रही है जहां स्टूडेंट अपने सपनो को संजोये आते हैं और ये कॉलेज उनके सपनों को पंख लगाने और रंग भरने का काम बखूबी करती है ।

 कॉलेज का इतिहास

अगर इस कॉलेज के इतिहास पर नज़र डालें तो इस कॉलेज की स्थापना 1972 में श्री अरबिंदो घोष के 100वें जन्म दिन के उपलक्ष्य में किया गया था । इस कॉलेज को अरबिंदो घोष के शिक्षा पद्धति से ही चलाया जाता है । जब इस कॉलेज की स्थापन की गई तब इस कॉलेज में सबसे पहले सिर्फ हिंदी विभाग की स्थापना की गई थी और प्रारम्भ में मात्र बी.ए. (प्रोग्राम) हिंदी पढ़ाई जाती थी । 1987 में हिंदी ऑनर्स की शुरुआत की गई ।

अरबिंदो घोष एक  प्रख्यात दार्शनिक के साथ साथ एक महान कवि भी थे और उनका ही बिम्ब इस कॉलेज में देखने को मिलता है और आज भी ये कॉलेज उनके ही बताये रास्तों पर चलने का प्रयत्न प्रतिदिन प्रतिछन करता है । अगर कॉलेज कैम्पस की बात करें तो कैम्पस के इंट्री गेट पर ही महान राष्ट्रवादी श्री  अरबिंदो घोष की प्रतिमा स्थापित की गई है इस प्रतिमा के माध्यम से ही वहाँ आने वाले स्टूडेंट्स के जीवन मे  अरबिंदो घोष की महान छवि को समाहित करने की कोशिश की गई है जो इस कॉलेज को अपने आप मे महान बनाता है

कौन कौन सा सब्जेक्ट यहां पढ़ाया जाता है

वही कॉलेज के फैकेल्टी की बात करें तो इस कॉलेज में सबसे पहले 1972 में हिन्दी की पढ़ाई शुरु की गई और तब से ले कर आज तक इस कॉलेज में कुल 9 सब्जेक्ट पढ़ाये जाते है जैसे- बीकॉम(प्रोग्राम),बीकॉम(ओनोर्स),बीए(प्रोग्राम),बीए (ओनोर्स)पोलिटिकल साइंस , बीए(ओनोर्स)इंग्लिश,बीए (ओनोर्स)हिंदी,बीएससी(प्रोग्राम)फिजिकल साइंस, बीएससी(प्रोग्राम)लाइफ साइंस और बीएससी (ओनोर्स) इलेक्ट्रॉनिकस की पढ़ाई की जाती है । साथ ही इस कॉलेज में रिसर्च डिपार्टमेंट भी मौजूद है जहां हिंदी के मुख्य पाठ्यक्रम के साथ हिंदी नाटक और रंगमंच, कथा-साहित्य, मीडिया लेखन और हिंदी पत्रकारिता की पढ़ाई विशेष पर्चे के रूप में कराई जाती है

69 total views, 1 views today

Facebook Comments
TNF
The Nation First official
http://thenationfirst.in

Leave a Reply