देश राजनीति

शरद गुट ने चुनाव आयोग पर लगाया आरोप, आयोग कर रही है एक तरफ़ा न्याय

25 अगस्त को शरद यादव ने जदयू के निशान तीर पर चुनाव आयोग में जा कर उस पर अपना दावा पेश किया था लेकिन चुनाव आयोग ने उनके दावे को यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि उनके पास इस से संबंधित कोई पुख्ता दस्तावेज नही है और नीतीश कुमार वाले जदयू को असली करार दिया था |
लेकिन एक बार फिर शरद यादव ने चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया है और पार्टी के दावे के समर्थन में पदाधिकारीयों के हस्ताक्षर युक्त दस्तावेज चुनाव आयोग को सौपा है । शरद यादव ने आयोग से 1 महीने का मोहलत मंगा है और कहा है कि कई राज्य इकाई और राष्ट्रीय परिषद के सदस्य हमारे साथ है जिससे मैं साबित कर सकता हूँ कि तीर पर मेरा अधिकार है ।
इस पर चुनाव आयोग ने कहा कि पार्टी समर्थन में पर्याप्त दस्तावेज नही है ऐसे में आवेदन पर किसी भी तरह का विचार करना संभव नही है । ऐसे में शरद यादव के लिए यह लड़ाई आसान बिल्कुल भी नही होगा । वहीं नीतीश खेमे के समर्थकों द्वारा चुनाव आयोग को सांसदों , विधायकों , विधानपरिषदों और 145 राष्ट्रीय परिषद सदस्यों की सूची सौंप दी गई है और चुनाव आयोग के फैसले की कॉपी राज्य सभा अध्यक्ष को दे दी जाएगी ।

इसे भी पढ़ें: बागी नेता शरद यादव पर टूटा मुसीबतों का पहार,धोना पर सकता है इस पद से हाथ

आपको बता दे कि शरद गुट ने चुनाव आयोग पर एक पक्षीय फैसला करने का आरोप लगाया है और अरुण श्रीवास्तव ने कहा कि हस्ताक्षर युक्त दस्तावेज सौपने के लिए चुनाव आयोग ने कोई नोटिस जारी नही किया जब कि शरद यादव के पास 16 से अधिक राज्यों के जदयू के अध्यक्ष राष्ट्रीय परिषद के कार्यकारणी के सदस्य उनके साथ हैं ।
शरद यादव ने 17 सितंबर को दिल्ली में राष्ट्रीय कार्यकारिणी, और 8 अक्टूबर को राष्ट्रीय परिषद की बैठक बुलाई है उसके बाद सब कुछ साफ साफ पता चल जाएगा साथ ही शरद यादव ने नीतीश कुमार को ललकारते हुए कहा कि अगर नीतीश कुमार में दम है तो वो खुल कर हमारा विरोध करें और दूसरों के द्वारा धमकी दिलवाना बंद करें इस से शरद यादव डरने वाला नही है ।

Facebook Comments
Rahul Tiwari
युवा पत्रकार
http://thenationfirst.in

One thought on “शरद गुट ने चुनाव आयोग पर लगाया आरोप, आयोग कर रही है एक तरफ़ा न्याय”

Leave a Reply