राजनीति

नीतीश कुमार को लग सकता है जोरदार झटका, शरद यादव ने पेश किया पुख्ता दस्तावेज

दयू से बागी चल रहे नेता शरद यादव और अली अनवर के ऊपर पार्टी विरोधी गतिविधियों का आरोप लगाया गया था और साथ ही राज्यसभा से अयोग्य साबित कर दिया गया था। लेकिन खुद को योग्य साबित करने के लिए शरद यादव और अली अनवर ने राज्यसभा के सभापति के समक्ष अपना जवाब प्रस्तुत कर दिया है शरद गुट के नेता जावेद रज़ा ने बताया कि सभापति द्वारा जारी किया गया नोटिस पर दोनों नेताओं ने अपने वकील के माध्यम से 400 पेज का दस्तावेज सौपा है जिसमे दोनों बागी नेताओं के जवाब मौजूद हैं साथ ही रज़ा ने बताया कि उसमें शरद गुट वाले जदयू के वास्तविक होने का सबूत मौजूद है।

उसमे दलील दिया गया है कि इन दोनों ही नेताओं पर दल-बदल का कानून लागू नही होता है। इस मे कहा गया है कि शरद यादव और अली अनवर की शिकायत करने वाली पार्टी का गुट अब बीजेपी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक में शामिल हो गया है जिस कारण नीतीश कुमार के अगुवाई में शिकायतकर्ता गुट द्वारा किये गये फैसले को रद्द कर दिया गया है ।

यह भी पढ़ेंः शरद गुट ने चुनाव आयोग पर लगाया आरोप, आयोग कर रही है एक तरफ़ा न्याय

वहीं शरद यादव और अली अनवर ने दूसरी दलील में कहा है कि वास्तविक जदयू की पहचान का मामला चुनाव आयोग में लंबित होने की दी है और आग्रह किया है कि जब तक आयोग का अंतिम फैसला ना आजाये तब तक सभापति इस शिकायत का निस्तारण नहीं करें ।

आपको बता दें कि जदयू में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अगुआई वाले गुट को राजग में शामिल होने के फैसले से शरद यादव ने बागी तेवर अख्तियार किया था और उसके बाद दोनों गुट ने अपने अपने पार्टी को वास्तविक बताते हुए पार्टी के चुनाव चिन्ह पर अपना दावा पेश किया था ।

जिस में चुनाव आयोग ने शरद गुट के झटका देते हुए कहा था कि चुनाव चिन्ह उनका है इस संबंध में वो कोई पुख्ता दस्तावेज नही दे पाए है जिस कारण आयोग ने इसे खारिज कर दिया था लेकिन एक बार फिर शरद गुट ने आयोग को दस्तावेज सौपा है । देखना दिलचस्प होगा कि इसमें जीत किसकी होती है अगर फैसला शरद यादव के पक्ष में आता है तो नीतीश कुमार के लिए ये जोरदार झटका होगा ।

307 total views, 1 views today

Facebook Comments
Rahul Tiwari
युवा पत्रकार
http://thenationfirst.in

Leave a Reply